मदिरा की लत पर रोकथाम

शराब की लत का अर्थ है कि शराब पीना व्यक्ति के जीवन का एक महत्वपूर्ण या सबसे महत्वपूर्ण कारक बन जाए और लगे कि इसके बिना तो कुछ भी करना मुश्किल है। यह जानकार आप आश्चर्य करेंगे कि शराब की लत लगने के लिए यह जरूरी नहीं है कि आप हमेशा खूब अधिक मात्रा में शराब पिएं।

14

Aug 2015

मदिरा पर निर्भरता के क्या लक्षण हैं?

Posted by / in मदिरा की लत पर रोकथाम / No comments yet

मदिरा की लत और मदिरा का दुरुपयोग बहुत समान हैं, और इसमें प्रायः केवल डिग्री या तीव्रता का फर्क होता है।
मदिरा की लत और मदिरा के दुरुपयोग के कुछ चिह्न और लक्षण इस प्रकार हैं:

  1. मदिरा पीना।
  2. छुपाकर पीना।
  3. कितनी मदिरा पीनी है, इसपर कोई नियंत्रण नहीं होना।
  4. समय का अहसास नहीं होना।
  5. कुछ कर्मकांडों या रिवाजों को अपना लेना और जब इन कर्मकांडों या रिवाजों को पूरा करने में बाधा हो तो खीझना या नाराज होना। यह, खाने से पहले/उसके दौरान या उसके बाद अथवा काम के बाद पीने के रूप में हो सकता है।
  6. अपनी रुचि या मनपसंद गतिविधियों को स्थगित कर देना; उनमें दिलचस्पी न लेना।
  7. पीने की तीव्र इच्छा महसूस करना।
  8. पीने का समय नजदीक आने पर बेचैनी महसूस करना। यदि शराब उपलब्ध न हो या उपलब्ध न होने की संभावना हो तो इस बेचैनी का और अधिक बढ़ना।
  9. गुप्त स्थानों पर मदिरा छुपाकर रखना।
  10. नशा के लिए मदिरा को जल्दी-जल्दी गटकना और फिर बेहतर महसूस करना।
  11. संबंधों की समस्या से जूझना (पीने के कारण उत्पन्न)।
  12. कानूनी समस्यायों से जूझना (पीने के कारण उत्पन्न).
  13. काम-काज संबंधी समस्याओं से जूझना (पीने के कारण उत्पन्न, जिसका मूल कारण पीना हो)।
  14. आर्थिक समस्या (पीने के कारण उत्पन्न).
  15. नशा अनुभव करने के लिए अधिक मात्रा में मदिरा की आवश्यकता होना।
  16. नहीं पीने पर चक्कर आना, पसीना निकलना या शरीर कांपना।

मदिरा का दुरुपयोग करने वाले व्यक्ति में इन संकेतों और लक्षणों में से कई सारे दिखाई पड़ सकते हैं – लेकिन जैसा कि मदिरा के आदी व्यक्तियों में होता है उनमें पीछे हटने के कोई चिह्न नहीं दिखाई देते, न ही पीने को लेकर उतनी तीव्र बाध्यता होती है।

शराब पर निर्भरता की समस्याएं व्यापक हैं और ये व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और सामाजिक रूप से प्रभावित करती हैं। मदिरा की लत वाले व्यक्ति के लिए मदिरा एक मजबूरी, एक बाध्यता बन जाती हैं – यह उसके सभी कामों पर भारी पड़ती है। कई सालों तक यह अप्रकट रूप में रह सकता है।

Please select the social network you want to share this page with:

We like you too :)

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Donec tincidunt dapibus dui, necimas condimentum ante auctor vitae. Praesent id magna eget libero consequat mollis.

SIMILAR POSTS
No comments yet

Enter the Discussion and post your Comment